In the eye of google...


The people of India are among the warmest and the most hospitable people in the world. They take pains to make their guests feel at home. Even today, Indian people believe in their age-old traditions and make sure the same values are passed onto future generations. The rich traditional background of our country fascinates the current generation. Even though they wear the latest fashionable accessories and flaunt the best cell phones, when it comes to respecting elders and following the religious practices, they make sure that there is no chance for complaints.

क्या ये सही है..हम क्या वाकई ऐसे है...जी हां ...यही सवाल मेरे दिल में आयें...ये पढ़कर..गूगल तो हमारे बारे में लोगो को यही बता रहा है...तो मैनें सोचा कि इससे पहले कि लोगो को हमारी सही स्थिति पता चले क्यों ना हम आप कुछ तैयारियां कर ले...क्या अरे लोग हमें इतना महान , सबकी इज्जत करने वाला, मेहमान को भगवान समझनें वाला बता रहे है....तो क्या इसके खिलाफ नारे, धरने नहीं देने चाहिए... ऐसे कैसे ये हमारे बारे में कुछ भी लिख सकते है...जब कि वो दौर तो कब का चला गया कभी ये सच है कि हम ऐसे थे...पर अब दौर और है...


यदि आप मधुमेह और दिल के रोग से दूर रहना चाहते हैं, तो रोजाना उचित मात्रा में मिर्च खाइए। एक नए अध्ययन में खुलासा हुआ है कि मिर्च न सिर्फ जायका बढ़ाती है, बल्कि यह इंसान को स्वस्थ रखने में भी काफी मददगार है।
भारतीय मूल की अनुसंधानकर्ता डॉ. किरण आहूजा के नेतृत्व में एक अंतरराष्ट्रीय टीम द्वारा किए गए अध्ययन में पता चला है कि मिर्च में मधुमेह और दिल के रोगों को रोकने की क्षमता है।
स्टडी के अनुसार मिर्च में पाए जाने वाले कैप्साइसिन तथा डीहाइड्रोकैप्साइसिन नाम के दो तत्वों में ब्लड शुगर को कम करने, इंसुलिन का स्तर बनाए रखने तथा धमनियों की दीवारों पर जमने वाले वसीय अम्लों को कम करने और खून के थक्के रोकने की क्षमता होती है।


सोने-चांदी और डायमंड की जूलरी की खरीदारी आज सिर्फ त्योहार और शादी जैसे विशेष मौकों तक ही सीमित नहीं रह गई है, बल्कि यह दैनिक जीवन की वस्तु बनती जा रही है। ज्यादातर लोग जरूरत पर ही जूलरी खरीदते हैं, तो कई लोगों के लिए शौक, निवेश या गिफ्ट देने के लिए पहली पसंद जूलरी ही होती है। ऐसे में इतनी सावधानी जरूर बरतनी चाहिए कि कोई आपको सस्ते के चक्कर में गलत चीज न पकड़ा दे।
भारत में सोने-चांदी का बाजार काफी बड़ा है। सोने की खपत के मामले में भारत विश्व में अव्वल है। यहां इसकी खपत 800 टन सालाना से भी ऊपर है। ऐसे में कम कीमत की चाह और थोड़ा लाभ लोगों को भरमा सकता है। इस बात को सोने का कारोबार करने वाले कारोबारी भी मानते हैं। सोने और चांदी की डिमांड इतनी ज्यादा है कि इसकी खरीदारी को सीमित दायरे में नहीं बांधा जा सकता। ऐसे में लोगों को खरीदारी करते हुए काफी एहतियात बरतने की जरूरत है।
हॉलमार्क सोने के जेवर खरीदते समय उन पर हॉलमार्क का निशान जरूर देखें। हॉलमार्क भारतीय मानक ब्यूरो का क्वॉलिटी का निशान होता है। इसका मतलब है कि सरकार ने इसकी जांच कर ली है और इसकी शुद्घता की गारंटी सरकार ने ले ली है। हॉलमार्क के निशान लगे सोने या गहने की रिसाइक्लिंग यानी उसे दोबारा बेचने पर ग्राहकों को माकेर्ट प्राइस मिलेगा। कट की गुंजाइश नहीं होगी। याद रखें, हॉलमार्क जूलरी से बेहतर कोई विकल्प नहीं होता।
शुद्घता जूलरी की शुद्घता कैरेट में नापी जाती है। सोने की शुद्घता से अर्थ है कि उसमें किसी अन्य धातु का कितना प्रतिशत हिस्सा मिला हुआ है। 18 कैरेट का मतलब है, सोने के 18 हिस्से के साथ अन्य धातु का 82 हिस्सा। जूलरी में 100 प्रतिशत शुद्घ सोना प्रयोग नहीं किया जाता, क्योंकि यह बहुत अधिक मुलायम होने के कारण अधिक समय तक जूलरी के आकार में नहीं रहेगा। जूलरी की अधिकतम शुद्घता 99.9 प्रतिशत हो सकती है। इसे 24 कैरेट कहा जाता है। आम चलन 22 कैरेट (91.6 प्रतिशत शुद्घ) या 18 कैरेट (75 प्रतिशत शुद्घ) गोल्ड जूलरी का होता है। सोने की शुद्घता की जानकारी के लिए जूलर से बात करें।
जूलर जूलरी हमेशा मान्यता प्राप्त जूलर से ही खरीदें। इससे यह फायदा होगा कि गलत या खराब माल को आसानी से वापस किया जा सकता है। ऐसी शॉप्स पर क्वॉलिटी प्रॉडक्ट मिलने की संभावना हमेशा ज्यादा होती है। जूलर की रिफंड और रिटर्न पॉलिसी के बारे में भी पूछ लें।
रसीद जूलरी खरीदने के बाद उसकी रसीद अवश्य लें। इस पर यह लिखवाएं कि सोना कितने कैरेट है और उत्पाद पर हॉलमार्क का निशान लगा हुआ है या नहीं। जूलरी की गारंटी, वजन, शुद्घता, कीमत आदि के बारे में लिखित में लें। सोने के बाजार भाव से कीमत की कैलकुलेशन जरूर करें।


आज के समय में रोज़ नई नई बीमारियां बरस रही है....ऐसे में अपने आप को स्वास्थ रखना और बीमारियों से दूर रखना बेहद मुश्किल होता जा रहा है...आपको इसी मुश्किल से निकालने के लिए....हमने आपके लिए कुछ घरेलू और आसान से नुस्खे तलाशे जो आपको स्वास्थ रखने के साथ बीमारियों से भी बचाये रखेगें... स्टडीज बताती हैं कि वजन घटाने में मदद करने के साथ ही टमाटर कई तरह के कैंसर को भी रोकने की क्षमता रखता है।

हाल में हुई एक रिसर्च से साबित हुआ है कि अगर आप एक हफ्ते में 10 बार टमाटर खाते हैं, तो कैंसर होने का खतरा 45 पर्सेन्ट कम हो जाता है। इतना ही नहीं, टमाटर को सलाद में लेने से पेट के कैंसर होने का रिस्क 60 पर्सेन्ट तक घट जाता है। दरअसल, रिसर्च बताती है कि टमाटर में लाइकोपीन खासी अमाउंट में पाया जाता है और यह कई तरह के कैंसर रोकने में फायदेमंद है।

बताते चलें कि डाइट एक्सपर्ट्स हरे टमाटर की तुलना में लाल टमाटर को ज्यादा फायदे देने वाला बताते हैं, क्योंकि फ्राई करने पर वह लाइकोपीन को अच्छे से आब्जर्व कर लेता है। रिसर्च से यह भी पता लगा है कि टमाटर को तेल में फ्राई करने के बावजूद उसके न्यूट्रिएंट्स खत्म नहीं होते। लाइकोपीन के अलावा, टमाटर में पोटाशियम, नियासिन, विटामिन बी6 और फॉलेट होते हैं, जो दिल की सेहत के लिए बेहद जरूरी हैं। इतना ही नहीं, टमाटर में दो एंटी एंजिंग कंपाउंड्स, आईकोपीन और बीटा कैरोटिन भी होते हैं।

अब आप जब भी टमाटर खरीदने जाएं, तो लाल टमाटर ही चुनें। इनमें बीटा कैरोटिन व आईकोपीन की मात्रा बहुत अधिक होती है। वैसे, अगर आप अपना वजन कम करने के बारे में सोच रहे हैं, तो भी टमाटर आपके लिए फायदेमंद रहेंगे। इसमें फाइबर ज्यादा व कैलरीज कम होती हैं, जो वेट घटाने में मदद करती हैं। इसमें मौजूद बीटा कैरोटिन भी बॉडी के लिए बेहद फायदेमंद है। दरअसल, यह बॉडी में विटामिन ए में बदल जाता है और यह तो सभी जानते हैं कि विटामिन ए त्वचा, बालों, हड्डियों व दांतों को हेल्दी रखने के लिए जरूरी है।


रसोई गैस के लिए अब दिल्ली के कंस्यूमर्स को ना लाइन में लगने की जरूरत होगी और ना ही फोन से बुकिंग कराने की। बस, रेलवे इन्क्वायरी या फोन बैंकिंग की तरह एक छोटे से एसएमएस से आपकी गैस बुक हो जाएगी। एसएमएस भेजने के बाद आपको बाकायदा डिलीवरी की तारीख और समय बता दिया जाएगा। दिल्ली के बाद इसे दूसरे शहरों में भी ज्लदी ही शुरू किया जाएगा।
क्या करना होगा कंस्यूमर को सबसे पहले अपना सेल नंबर रजिस्टर्ड करना होगा। इसके लिए एक 5 डिजिट के टोलफ्री नंबर पर कॉल करके डीलर और अपना नंबर फीड करवाना होगा। यह प्रक्रिया पूरी होने पर कंस्यूमर को बस 'LPG' लिखकर पांच अंकों के टोल फ्री नंबर पर SMS करना होगा। आपका मोबाइल नंबर SMS से भी रजिस्टर्ड हो जाएगा।
इंडेन के कंस्यूमर्स को इसके लिए डीलर और अपना नंबर वाला एक SMS *501# पर भेजना होगा। भारत गैस के लिए *502# पर SMS करना होगा। रजिस्ट्रेशन के बाद गैस बुक करने के के लिए आपको 501 (इंडेन) और 502 (भारत) पर 'LPG' एसएमएस करना होगा। मोबाइल नंबर कंस्यूमर का यूनिक नंबर होगा। बुकिंग के साथ कंस्यूमर को बता दिया जाएगा कि गैस की डिलिवरी किस दिन और कब होगी।
HP के उपभोक्ताओं के लिए यह सिस्टम कुछ अलग होगा। कंपनी के एक 10 डिजिट वाले नंबर पर आप कभी भी अपनी कॉल रेकॉर्ड कर सकेंगे। इसमें आपको अपना मोबाइल नंबर और डीलर का नाम बताना होगा। गैस बुकिंग की सूचना आपको एसएमएस से भेज दी जाएगी। इस मामले से जुड़ी शिकायतों को आप एक 6 डिजिट वाले नंबर पर दर्ज करा सकेंगे। यह नंबर सभी के लिए एक होगा।
भारत गैस 52725 (वोडाफोन, MTNL, आइडिया & टाटा मोबाइल )
बाकी मोबाइल यूजर्स- 57333
एसपी गैस 9990923456 इस नंबर पर कभी भी अपनी डिमांड दर्ज की जा सकती है।
शिकायत सभी 3 कंपनियों की शिकायत 155233 पर दर्ज की जा सकेगी।


रोज़ हम अपने सपने को पूरा करने की ओर आगे बढ़ रहे है...इस यकीन से की ये जानकारी जो मैं आपको दे रही हूं..आपको आपके सपने के बेहद नजदीक तो ले ही जायेगी...आपका सपना पूरा हो और ये जानकारियां आपका सपना पूरा करने में आपकी मदद करें...मेरे लिए इससे अच्छा और क्या हो सकता है...तो चलिये आज आपको आपके सपने को पाने की आखिरी पड़ाव को भी जान लेते है...सबसे पहले बात लोन की रीपेमंट पर....

लोन का रीपेमंट

1. पोस्ट डेटेड चेक : बैंक में 36 पोस्ट-डेटेड चेक जमा करा दिए जाते हैं, जिनसे खुद-ब-खुद ईएमआई की रकम बैंक को मिल जाती है।

2. सीधे एंप्लॉयर से : कई कंपनियां अपने कर्मचारियों को यह सुविधा देते हैं। इस व्यवस्था में कंपनी कर्मचारी की सैलरी से ईएमआई की रकम काटकर बैंक को दे देती है और बाकी सैलरी कर्मचारी के अकाउंट में आ जाती है।

3. कैश पेमंट : ईएमआई आप ड्राफ्ट या कैश की मदद से हर महीने भी बैंक में जमा करा सकते हैं। हालांकि, कुछ बैंक ऐसी सुविधा नहीं देते।

4. ईसीएस : ईएमआई अदा करने का कारगर तरीका है। इस व्यवस्था में ईएमआई की रकम हर महीने आपके बैंक अकाउंट से अदा की जाती रहती है।

प्रीपेमंट/प्रीक्लोजर लोन ली गई रकम का प्रीपेमंट जब चाहे तब किया जा सकता है। आप चाहें तो कुछ रकम वक्त से पहले अदा कर दें और चाहें तो पूरी रकम। कुछ बैंक कहते हैं कि कुछ निश्चित बार ही आप प्रीपेमंट कर सकते हैं। कुछ समय पहले तक प्रीपेमंट करने पर बैंक कुछ फीस चार्ज करते थे, लेकिन अब बढ़ते कॉम्पिटीशन के चलते कुछ बैंकों ने यह फीस चार्ज करना बंद कर दिया है। आमतौर पर यह फीस आउटस्टैंडिंग रकम का 2 फीसदी होती है। जब लोन का पूरा पेमंट हो जाए (चाहे प्रीपेमंट के जरिये या फिर वक्त पर) तो बैंक से अपनी प्रॉपर्टी के ऑरिजनल पेपर्स ले लें। साथ ही बैंक से नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट भी लें। कई बार बैंक एक सर्टिफिकेट भी जारी कर देते हैं कि प्रॉपर्टी अब मॉर्गिज में नहीं है। अगर आपका लोन सैंक्शन होते वक्त गारंटर्स भी थे तो बैंक उनके लिए अलग से सर्टिफिकेट इश्यू करेगा कि अब उनकी जिम्मेदारी खत्म हुई।

होम लोन का टैक्स बेनिफिट

होम लोन को लौटाने में जो ईएमआई दी जाती है, उसका कुछ हिस्सा प्रिंसिपल अमाउंट होता है और कुछ हिस्सा ब्याज। जो रकम ब्याज के रूप में अदा की जाती है उस पर इनकम टैक्स के सेक्शन 24 बी के तहत टैक्स में राहत मिलती है। इसकी सीमा डेढ़ लाख रुपये है। जो रकम प्रिंसिपल अमाउंट के तौर पर अदा की जाती है, उस पर 80सी के तहत छूट मिलती है। इसे एक लाख रुपये की सीमा के अंदर काउंट किया जाता है। इसके लिए बैंक द्वारा जारी किया गया सर्टिफिकेट पेश करना होता है, जिसमें बताया जाता है कि आपने पूरे साल के दौरान कितनी रकम प्रिंसिपल के तौर पर अदा की और कितनी ब्याज के तौर पर।

होम लोन का इंश्योरंस अक्सर लोग इस डर के चलते होम लोन नहीं लेते कि अगर कोई अनहोनी हो गई तो लोन की रकम कौन चुकाएगा। इसके लिए इंश्योरंस कंपनियां कस्टमर द्वारा लिए गए होम लोन का इंश्योरंस ऑफर करती हैं। होम लोन का इंश्योरंस कराने के बाद अगर कस्टमर की असमय मौत हो जाती है तो बची हुई रकम का भुगतान इंश्योरंस कंपनी करती है। इंश्योरंस के प्रीमियम के तौर पर दी जा रही रकम पर इनकम टैक्स में छूट भी मिलती है। कंपनियां कई तरह के ऑप्शंस देती हैं, फिर भी आमतौर पर दो तरह के प्लान हैं।

सिर्फ इंश्योरेंस प्लान : इसमें लोन रीपेमंट की अवधि के दौरान मौत हो जाने पर रीपेमंट की जिम्मेदारी कंपनी की होगी। लेकिन, अगर एक बार आपका रीपेमंट पूरा हो गया तो इंश्योरंस खत्म हो जाता है और कस्टमर को कंपनी की तरफ से सिर्फ सम अश्योर्ड ही मिलता है। बोनस आदि कुछ नहीं मिलता। इस तरह की स्कीमों में प्रीमियम की रकम कम होती है।

इंश्योरंस के साथ इनवेस्टमंट प्लान : इसमें होम लोन के रिस्क कवर के साथ इनवेस्टमंट संबंधी फायदे भी मिलते हैं। रीपेमंट पूरा हो जाने के बाद कस्टमर को सम अश्योर्ड के साथ उस वक्त तक बोनस भी मिलता है। इस तरह की पॉलिसीज में प्रीमियम की रकम थोड़ी ज्यादा होती है।

बात पते की : कई बैंक होम लोन देते वक्त होम लोन के इंश्योरंस की व्यवस्था भी साथ ही कर देते हैं यानी आपकी ईएमआई में होम लोन के इंश्योरंस के प्रीमियम की रकम भी जोड़ ली जाती है। कुछ बैंकों के इंश्योरंस कंपनियों से टाईअप होते हैं। ऐसे में बैंक से होम लोन लेते वक्त ही होम लोन के इंश्योरंस की बात भी कर लेनी चाहिए। अगर आपका लाइफ इंश्योरंस है, फिर भी लोन का इंश्योरंस कराना चाहिए।

5 कॉमन मिस्टेक्स टॉप-अप लोन लेना: टॉप-अप लोन होम लोन के साथ दिया जाने वाला एडिशनल लोन होता है, जिसका मकसद मकान के इंटीरियर डेकोरेशन और इसी तरह के दूसरे खर्चों को पूरा करना होता है। कुछ बैंक होम लोन के साथ टॉप-अप लोन का भी ऑफर देते हैं। लोग आमतौर पर इन लोन को ले लेते हैं और बाद में उन्हें पता चलता है कि टॉप-अप लोन को पर्सनल लोन के तौर पर ट्रीट किया जाता है, जिसकी ब्याज की दर होम लोन की दर से कहीं ज्यादा होती है।

नेगेटिव अमॉर्टाइजेशन: नेगेटिव अमॉर्टाइजेशन की स्थिति तब आती है जब किसी खास अवधि में बैंक लोन की किस्त कम कर देते हैं। इस तरह की सुविधा वाला लोन यंग प्रफेशनल्स के लिए ऑफर किया जाता है। इसमें शुरुआती बरसों में सिर्फ ब्याज की रकम वसूलकर ईएमआई को कम दिखा दिया जाता है। दो साल बाद आपको पता चलता है कि प्रिंसिपल के रूप में आपने कुछ भी अदा नहीं किया है और इस तरह आपके द्वारा वापस की जाने वाली राशि लगभग ज्यों की त्यों बनी रहती है।

प्रॉपर्टी किसी के नाम, लोन किसी के नाम- अक्सर लोग किसी और के नाम पर मौजूद प्रॉपर्टी पर लोन लेने की गलती कर देते हैं। इसे इस उदाहरण से देखिए। मिस्टर शर्मा की मां के नाम कुछ जमीन थी। उन्होंने उस जमीन पर घर बनाने के लिए होम लोन अपने नाम पर ले लिया। ऐसी गलती न करें। अगर आप ऐसा कर रहे हैं तो आपको होम लोन पर कोई टैक्स बेनिफिट नहीं मिलेगा।

कल के बल पर लोन -कई बार यंग प्रफेशनल्स इस उम्मीद में कूवत से ज्यादा लोन ले लेते हैं कि आने वाले वक्त में उनकी आमदनी बढ़ जाएगी, लेकिन आजकल के माहौल में इस बात की कोई गारंटी नहीं कि आने वाले साल में आपकी आमदनी बढ़ ही जाएगी। ऐसे में कल आमदनी बढ़ जाने के भरोसे लिए गए लोन की रीपेमंट करना मुश्किल काम हो सकता है।

बैंक चुनने में जल्दबाजी- कई बार प्रॉपर्टी का चुनाव करने से पहले ही लोग लोन लेने के लिए बैंक से बात करना शुरू कर देते हैं। पहले प्रॉपर्टी फाइनल करें, फिर बैंक से लोन की सैंक्शन लें। कई बैंक रहने के लिए तैयार मकान पर ही लोन देते हैं। इसके अलावा, याद रखें कि बैंकों की सभी टर्म नेगोशिएबल होती हैं। बैंक का फैसला कई बैंकों से जानकारी लेने के बाद ही करें, तो अच्छा है।

तो ये थी सारी लोन से संबधित जानकारी जो आपको आपके सपने तक हिफाज़त से और किफायती तरीके से पहुचां सकती है...

(एक्सर्पट्स पैनल- सीए सुभाष लखोटिया, सीए सत्येंद्र जैन)


कल हमने बात की थी..अपने घर के सपने को अपना करने की...और आज हम आपको बताएंगे कैसे आप लोन से अपना सपना आसानी से पूरा कर सकते है....तो आईये जानते है.... इसका क्या प्रोसेस है...

1-एप्लिकेशन भरना - जी हां सबसे पहले जरूरी डॉक्यूमंट्स के साथ ऐप्लिकेशन फॉर्म जमा किया जाता है। अब जिन जरूरी कागजात की जरूरत पड़ती है....इसमें आईये ये भी जान लेते है...
आइडेंटिटी प्रूफ : वोटर आईडी, पैन कार्ड, पासपोर्ट, फोटो क्रेडिट कार्ड आदि में से कोई एक।
रेजिडेंस प्रूफ : राशन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट, रेंट अग्रीमंट।
इनकम प्रूफ : अगर अपना काम है तो इनकम टैक्स रिटर्न की पिछले तीन साल की कॉपी, अगर नौकरी करते हैं तो फॉर्म 16 और पिछले तीन महीने की सैलरी स्लिप, पिछले छह महीने की बैंक स्टेटमंट।
एम्प्लॉयमंट डीटेल : अगर नौकरी करते हैं और आपकी कंपनी जानी-मानी नहीं है तो कंपनी का लेटर।
प्रोसेसिंग फीस : ऐप्लिकेशन फॉर्म जमा करने के वक्त बैंक कस्टमर से प्रोसेसिंग फीस भी चार्ज करता है। यह अमूमन लोन की कुल रकम का आधे से 1 फीसदी होता है। कुछ बैंक प्रोसेसिंग फीस नहीं भी लेते हैं।
बात पते की : कुछ बैंक प्रोसेसिंग फीस को लेकर फ्लेक्सिबल होते हैं, इसलिए इस पर मोलभाव करके फीस को कम कराया जा सकता है। लोन अप्लाई करते वक्त ज्यादा से ज्यादा प्रूफ पेश करें। इससे आपका केस स्ट्रॉन्ग होता है।
2. पर्सनल वेरिफिकेशन
ऐप्लिकेशन जमा करने के एक या दो दिन बाद बैंक आपके द्वारा दी गई सभी सूचनाओं को वेरिफाइ करता है। कस्टमर की इनकम, अड्रेस, आइडेंटिटी आदि जांचने का काम किया जाता है।
बात पते की : इस प्रॉसेस में बैंक कई बार कॉल करके आपका वेरिफिकेशन कर सकता है। इसलिए इस प्रोसेस को पूरा करने के लिए थोड़ा वक्त निकालकर रखें और बार-बार कॉल आने पर परेशान नहीं हो।
3. हरी झंडी
आपके द्वारा दी गई जानकारी और उसके वेरिफिकेशन से अगर बैंक संतुष्ट है तो वह आपके लोन को हरी झंडी दिखा देगा, नहीं तो उसे रिजेक्ट कर देगा। वैसे अगर ऐप्लिकेशन रिजेक्ट की जा रही है तो बैंक आमतौर पर बैंक इसकी कोई वजह नहीं बताते। कस्टमर की रीपेमंट कपैसिटी का आकलन करके यह भी तय कर लिया जाता है कि उसे कितना अमाउंट सैंक्शन होगा।
4. ऑफर लेटर
इसके बाद बैंक तमाम सूचनाओं के साथ कस्टमर को ऑफर लेटर देता है, जिसकी एक कॉपी को साइन करके कस्टमर बैंक को लौटाता है।
बात पते की : ऑफर लेटर में दी गई लोन अमाउंट, अवधि और ब्याज दर को चेक कर लें कि क्या वह वही है जो आपके साथ तय की गई थी। ब्याज की दर पर कुछ मोलभाव किया जा सकता है।
5. प्रॉपर्टी वेरिफिकेशन
इसके बाद बैंक आपकी प्रॉपर्टी की कानूनी वैधता को चेक करता है। अपने लीगल डिपार्टमंट की मदद से बैंक प्रॉपर्टी के सभी ओरिजनल डॉक्यूमंट्स को वेरिफाई करके यह सुनिश्चित करता है कि प्रॉपर्टी हर तरीके से कानूनी है। इसके बाद बैंक अपने एक्सपर्ट्स को साइट पर भेजकर भी प्रॉपर्टी का वेरिफिकेशन कराता है और उसके बाद वैल्यूअर प्रॉपर्टी का वैल्यूएशन करता है।
बात पते की : यह महत्वपूर्ण पॉइंट है। हर कस्टमर को कराना चाहिए। कई बार बैंक लीगल वेरिफिकेशन के लिए कस्टमर से चार्ज करते हैं। इसके लिए मोलभाव कर सकते हैं। अगर लीगल वेरिफिकेशन के बाद बैंक लोन ओके कर देता है तो कस्टमर को खुश हो जाना चाहिए, क्योंकि इसका मतलब है कि उसके द्वारा ली जा रही प्रॉपर्टी कानूनी रूप से पूरी तरह सेफ है। उसमें कोई धोखा नहीं है।
6. अग्रीमंट साइन
इसके बाद लोन अग्रीमंट साइन हो जाता है और कस्टमर के नाम पर प्रॉपर्टी के ट्रांसफर होने के ओरिजनल कागजात बैंक में जमा हो जाते हैं। इसके बाद बैंक इस बात के सबूत मांगता है कि प्रॉपर्टी खरीदने के लिए लोन के अलावा जो रकम आपको देनी है, वह आपने पे कर दी है। बैंक कस्टमर से 36 पोस्ट-डेटेड चेक भी जमा कराता है जिनसे रीपेमंट होता रहे।
बात पते की : ध्यान रखें कि लोन अमाउंट का जो चेक बैंक इश्यू करेगा, वह प्रॉपर्टी बेचने वाले के नाम होगा, कस्टमर के नाम नहीं। ज्यादातर बैंक उसी दिन से ब्याज लेना शुरू कर देते हैं, जिस दिन चेक इश्यू होता है। आपको चेक कब सौंपा गया, इससे कोई लेना-देना नहीं है। इसलिए जिस दिन चेक इश्यू हो कोशिश करनी चाहिए कि उसी उसे बैंक से ले लिया जाए। प्रॉपर्टी के ऑरिजनल कागजात बैंक में जमा हो जाते हैं, इसलिए इन कागजात की फोटोस्टेट कॉपी अपने पास जरूर रख लें। कई बार बैंक प्रॉपर्टी के कागजात खो देते हैं। ऐसे में बैंक यह कह सकता है कि उसके पास कागज जमा ही नहीं कराए गए। इसलिए जिस वक्त आप प्रॉपर्टी के ऑरिजनल कागजात जमा कराएं तो बैंक से उसका सटिर्फिकेट भी ले लें।
7. बैंक से चेक आना
अगर प्रॉपर्टी रहने के लिए तैयार है तो लोन का भुगतान एक बार में ही हो जाता है। लेकिन अगर मकान बन रहा हो तो लोन अमाउंट का भुगतान कई हिस्सों में होता है। अगर भुगतान कई हिस्सों में होना है तो बैंक पहले हिस्से के भुगतान के बाद तुरंत ईएमआई शुरू नहीं करता। ईएमआई तब शुरू होती है, जब पूरे अमाउंट का भुगतान हो जाता है। ऐसे में बैंक भुगतान की गई रकम पर तब तक साधारण ब्याज चार्ज करता है, जब तक पूरी रकम का डिस्बर्समंट नहीं हो जाता। इसे प्री-ईएमआई कहा जाता है। इसके लिए बैंक आमतौर पर छह पोस्टडेटेड चेक लेते हैं।
बात पते की : प्रीईएमआई समय से अदा करना सुनिश्चित करें, नहीं तो बैंक लेट फीस चार्ज कर सकता है। किस्त की अदायगी बिल्डर को करने के फौरन बाद उससे ली गई रसीद को बैंक में जमा कराएं।
फिक्स्ड रेट या फ्लोटिंग?
फिक्सड रेट: फिक्स्ड रेट पर लोन लेने से कस्टमर को पूरी अवधि के दौरान बराबर ईएमआई देनी होती है। अगर एक्सपर्ट्स आने वाले समय में ब्याज में बढ़ोतरी की संभावना जाहिर कर रहे हैं तो फिक्स्ड रेट पर लोन लेना ठीक है।
फायदे : इस पर बाजार में हो रहे उतार-चढ़ाव और घटती-बढ़ती ब्याज दरों का कोई असर नहीं होता। हमेशा के लिए एक-सी ईएमआई फिक्स हो जाती है। सुरक्षा का भाव रहता है।
नुकसान : यह फ्लोटिंग रेट के मुकाबले 1 से 2.5 फीसदी ज्यादा होती है। अगर कभी ब्याज दरों में गिरावट आ जाए तो भी कस्टमर की ईएमआई में कमी नहीं होती। कई बार फिक्स्ड रेट पूरी अवधि के लिए न होकर सिर्फ कुछ सालों के लिए होता है। कुछ साल बाद इसमें बढ़ोतरी कर दी जाती है। इस पॉइंट को बैंक से साफ कर लें।
फ्लोटिंग रेट: फ्लोटिंग रेट होम लोन एक बेस रेट और फ्लोटिंग एलिमंट का मिक्सचर होते हैं। अगर बेस रेट में अंतर आएगा तो फ्लोटिंग रेट में भी अंतर आ जाएगा। लोन की अवधि के दौरान यह घटता-बढ़ता रहता है।
फायदे : फिक्स्ड रेट के मुकाबले अमूमन 1 से ढाई फीसदी कम होता है यानी पैसे की सेविंग होती है। बढ़ते-बढ़ते कभी-कभी यह फिक्स्ड रेट से ऊपर भी निकल सकता है, लेकिन ऐसा कुछ समय के लिए ही होता है। कुछ समय बाद यह रेट फिर से फिक्स्ड रेट से नीचे आ जाता है।
नुकसान : ईएमआई में बदलाव होता रहता है, जिसके चलते बजटिंग में दिक्कत होती है।
बात पते की : होम लोन लेने वाले तकरीबन 90 फीसदी लोग फ्लोटिंग रेट पर होम लोन लेते हैं, फिर भी बजटिंग सुरक्षा और सरटेनिटी अगर आपकी प्रायॉरिटी हैं तो फिक्स्ड रेट चुन सकते हैं।
कैसे चुनें बैंक लोन किस बैंक से लेना है, इसका फैसला करते वक्त इन पॉइंट्स को ध्यान में रखें
1. ब्याज की दर कम-से-कम हो।
2. बैंक द्वारा लिया जाने वाला प्रॉसेसिंग चार्ज कम-से-कम हो।
3. अगर समय से पहले लोन की रकम का पूरा भुगतान कर रहे हैं तो बैंक कोई पेनल्टी न वसूलता हो। 4. कोई और छिपे हुए चार्ज न हों।
तो ये रही इतनी जानकारी ...अब इस लोन का रीपेमंट आपको कैसे करना है.....इस होम लोन के टैक्स बेनिफिटआपको क्या मिल सकते है...हम आपको कल बताएंगे...तब तक थोड़ा इंतज़ार...
एक्सर्पट्स पैनल- सीए सुभाष लखोटिया, सीए सत्येंद्र जैन



हर कोई अपने घर का सपना देखता है....मैने भी देखा है....आप सब की तरह ...लेकिन ये सपना आजकल बहुत महगां है.. हर किसी के बस का नहीं है...लेकिन अगर हम थोड़ी सी सूझबूझ से सपना पूरा करना चाहे...तो हम कर सकते है..जी हां आप भी अपना घर बना सकते है....कैसे... बताते है....जमीन की कीमतों में आए ठहराव और तमाम बैंकों द्वारा होम लोन की ब्याज दरों में की जा रही कटौती के चलते यह सही वक्त है, जब आप होम लोन लेकर अपने घर का सपना साकार कर सकते हैं। क्या तरीका है होम लोन लेने का? कितनी अमाउंट का लोन आपको मिल सकता है? लोन लेने के लिए किन-किन कागजात की जरूरत होगी? एक्सर्पट्स से बात करके होम लोन से जुड़े ऐसे ही सवालों के जवाब तलाशे हैं ...प्रभात गौड़ ने-तो आइये सबसे पहले ये जान ले कि कितने तरह के ये होम लोन होते है...


कितनी तरह के होम लोन
घर खरीदने के लिए लोन : घर खरीदने के लिए लिया जाने वाला लोन। होम लोन का मतलब आमतौर पर इसी लोन से लगाया जाता है।
घर में इंप्रूवमंट के लिए लोन : अगर आप घर को रेनोवेट कराना चाहते हैं या कुछ मरम्मत आदि करानी है, तो यह लोन लिया जा सकता है।
कंस्ट्रक्शन लोन
: आपके पास प्लॉट (जमीन) पहले से हो तो उस पर मकान बनाने के लिए लिया जाने वाला लोन।
कन्वर्जन लोन : मान लीजिए आप जिस मकान में रह रहे हैं, उसके लिए आपने होम लोन लिया है। अब आप दूसरा घर खरीदना चाहते हैं, जिसके लिए आपको और पैसे की जरूरत है। कन्वर्जन लोन के माध्यम से पुराना लोन नए घर के लोन पर ट्रांसफर हो जाता है। इसमें जो एक्स्ट्रा पैसे की जरूरत होती है, वह भी शामिल होता है। ऐसा करने से कस्टमर पुराने लोन को चुकाने में दिए जाने वाले प्रीपेमंट चार्ज से बच जाता है।
लैंड परचेज लोन : मकान बनाने या सिर्फ इनवेस्टमंट की नजर से अगर आप जमीन खरीद रहे हैं तो लैंड परचेज लोन ले सकते हैं। तो ये तो रही लोन की बात अब ये किसे मिल सकता है....अब ये जान लेते है...
किसे मिल सकता है लोन
लोन की शुरुआत होते वक्त लोन लेने वाले की उम्र कम-से-कम 21 साल होनी चाहिए।
लोन मचुअर होते वक्त उम्र 65 साल से ज्यादा नहीं होनी चाहिए।
लोन लेने वाला या तो सैलरीड हो या सेल्फ एंम्प्लॉयड (अपना कारोबार आदि) हो। अगर कोई प्रॉबेशन पर है तो वह होम लोन का हकदार नहीं है। अब आइये हम ये भी तो जान ले कि कितना होम लोन हमे मिल सकता है....अपने सपने को पूरा करने के लिए...
कितना मिल सकता है लोन
बैंक आमतौर पर कुल मासिक बचत का करीब 40 गुना लोन देते हैं। सैलरी के रूप में आप महीने में जितनी रकम घर ले जाते हैं, उसमें से घरेलू खर्च में काम आने वाली रकम और किसी दूसरे लोन के लिए चुकाई जा रही ईएमआई की रकम को भी घटा दिया जाता है। इस तरह जो रकम मिलती है, उसका 40 गुना लोन मिलता है। अगर आप बिजनेस में हैं तो आपकी आमदनी नेट प्रॉफिट से मानी जाएगी, न कि कुल टर्नओवर से। वैसे, अलग-अलग बैंकों का अलग-अलग फॉर्म्युला होता है और लोन की रकम प्रॉपर्टी की कीमत पर भी निर्भर करती है। ज्यादातर बैंक प्रॉपर्टी की कीमत का 80 से 85 फीसदी तक लोन दे देते हैं, लेकिन यह सब बैंक पर निर्भर करता है। प्रॉपर्टी की कीमत प्रॉपर्टी की असली कीमत और रजिस्ट्री पर आने वाला खर्च भी शामिल होता है। तो ये तो रही यहां तक की जानकारी... अब लोन लेने का प्रोसेस..क्या है... हम बतायेगें... अपनी अगले पोस्ट में ...तब तक के लिए आपको करना होगा....थोड़ा सा इंतजा़र....

हमारे समाज ने हमें बहुत सी सुविधा...बहुत से हक दिये है.....लेकिन हम उमसे अनजान है...जी हां....आईपीसी के मुताबिक, कुछ अपराध ऐसे हैं, जिनमें दोनों पक्ष आपसी सहमति से समझौता कर सकते हैं और इसके बाद उन्हें कोर्ट-कचहरी के झंझटों से मुक्ति मिल सकती है।जेलों में बंद तमाम अपराधी ऐसे हैं, जो छोटे-मोटे जुर्म में सजा काट रहे हैं। अगर अपराधी या उसके वकील को सही जानकारी होती, तो इनमें से ज्यादातर मुकदमे साल-छह महीने या उससे भी कम वक्त में खत्म हो गए होते। भारतीय दंड संहिता में कुछ ऐसे अपराध परिभाषित किए गए हैं, जो जाने-अनजाने हो जाते हैं। ऐसे मामलों में अदालत में लंबे ट्रायल की जरूरत नहीं है। दोनों पक्ष चाहें तो आपस में समझौता कर मुकदमे को शुरू में ही खत्म करा सकते हैं। आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 320 के तहत संबंधित अदालत में आवेदन देकर ऐसा किया जा सकता है। ये छोटे-मोटे अपराध होते हैं इसलिए कानून में व्यवस्था है कि दोनों पक्ष आपस में समझौता करें और अदालत को बताएं कि उनके बीच समझौता हो चुका है। इसके बाद अदालत ऐसे मामलों को खत्म करने का आदेश दे देती है। ये सभी मामले धारा 320 (1) आपराधिक प्रक्रिया संहिता संशोधन 2008 के अंतर्गत आते हैं। जैसे-
1. किसी की धार्मिक भावनाओं को कुछ शब्द कहकर ठेस पहुंचाना (धारा 298)।
2. हल्की चोट पहुंचाना (धारा 323 व 334)।
3. किसी व्यक्ति को गलत तरीके से कहीं रोक देना या कैद करके रखना (धारा 341 व 342)।
4. किसी व्यक्ति को मारना, किसी के उकसाने पर हमला करना या आपराधिक बल प्रयोग करना, उकसाने पर या किसी और वजह से किसी का अनादर करने के लिए उस पर हमला करना (धारा 352, 355, 358)। समझौता उस व्यक्ति से होगा, जिसे मारा गया या जिस पर बल प्रयोग किया गया।
5. ऐसी शरारत, जिससे किसी व्यक्ति विशेष को नुकसान (आर्थिक) हुआ, हो या उसकी चीज नष्ट कर दी गई हो (धारा 426, 427)।
6. किसी की जगह या जमीन पर जबरन घुस जाना (धारा 447)।
7. घर में जबरन घुसना (धारा 448)।
8. सेवा शर्तों का उल्लंघन करना। मान लीजिए कोई व्यक्ति, शारीरिक रूप से असहाय किसी व्यक्ति की सेवा के लिए नियुक्त हुआ, पर उसने अपना काम नहीं किया और इसकी वजह से असहाय व्यक्ति को तकलीफ हुई (धारा 491)। उस व्यक्ति से समझौता होगा, जिससे असहाय व्यक्ति की सेवा के लिए कॉन्ट्रैक्ट हुआ हो।
9. अडल्टरी (व्यभिचार) धारा 497। समझौता उस महिला के पति से होगा, जिसके साथ व्यभिचार किया गया।
10. किसी विवाहित महिला को बहकाकर ले जाना, उसे गलत काम करने के लिए कैद करके रखना (धारा 498)। महिला के पति के साथ समझौता।
11. बदनाम करना (धारा 500)।
12. किसी को मार डालने या गहरी चोट पहुंचाने की धमकी देना (धारा 506)।
13. किसी व्यक्ति से यह कहकर कोई काम करवाना कि ऐसा नहीं करोगे तो ईश्वर नाराज होंगे (धारा 508)।
नोट : समझौता उसके साथ होगा, जो शख्स प्रभावित हुआ है।
अपराध, जिनमें अदालत की आज्ञा से होगा समझौता- कुछ अपराध ऐसे भी हैं, जिनमें अदालत की आज्ञा से समझौता किया जा सकता है। दरअसल, ये गंभीर किस्म के अपराध होते हैं इसलिए ऐसे मामलों को समझौते के आधार पर खत्म करने के लिए अदालत की आज्ञा जरूरी है। पहले समझौता उस पक्ष से कर-ना होता है, जिसे नुकसान हुआ या चोट पहुंची। फिर दोनों पक्ष मिलकर एक आवेदन संबंधित अदालत में देते हैं कि उनके बीच समझौता हो गया है। अदालत से कहा जाता है कि वह उस समझौते को मान्यता दे। ऐसा मुकदमे के शुरू में, बीच में, अंत में, ट्रायल कोर्ट में, अपील कोर्ट में कहीं भी और कभी भी किया जा सकता है। इन अपराधों में अदालत की आज्ञा लेकर समझौता किया जा सकता है। अमूमन अदालत की आज्ञा आसानी से मिल जाती है।
1. किसी को जानबूझकर गहरी चोट पहुंचाना (धारा 325)।
2. जानबूझकर या अचानक किसी उकसावे पर गहरी चोट पहुंचाना (धारा 335)।
3. कोई ऐसा काम जल्दबाजी या लापरवाही से करना, जिसमें किसी को चोट लग जाए और उसकी जान पर बन आए (धारा 337)।
4. कोई ऐसा काम जल्दबाजी में या लापरवाही से करना कि आम जनता की जिंदगी खतरे में पड़ जाए (धारा 338)।
5. किसी को गलत तरीके से तीन दिन या उससे ज्यादा दिनों तक कैद करके रखना (343), किसी को 10 दिन या उससे ज्यादा कैद कर रखना (344), किसी को गुप्त तरीके से कैद करके रखना (धारा 346)।
6. किसी महिला के साथ दुराचार के लिए उसके साथ बल प्रयोग करना (धारा 354)।
7. किसी को कैद में रखने के लिए बल प्रयोग करना (357)।
8. ऐसी जगह पर चोरी, जहां चोरी की गई चीज की कीमत दो हजार रुपये से ज्यादा न हो (धारा 379)।
9. क्लर्क या नौकर द्वारा ऐसी चीज की चोरी करना, जिसकी कीमत दो हजार रुपये से ज्यादा नहीं हो (धारा 381)।
10. बेईमानी करके किसी की संपत्ति हड़प लेना (धारा 403)।
11. कई बार हम किसी के पास अपना कोई सामान (जेवर आदि) सौंपकर जाते हैं कि वापस आकर ले लेंगे, लेकिन वापस मांगने पर वह हमें नहीं देता। अगर ऐसे सामान की कीमत दो हजार रुपये से ज्यादा नहीं है तो धारा 406 लगेगी।
12. ट्रांसपोर्ट कंपनी द्वारा ऐसा सामान हड़प लेना, जिसकी कीमत 2000 रुपये तक है (धारा 407)। मान लीजिए आपने अपना सामान ट्रक से कहीं भेजा, लेकिन ट्रक वाले ने सामान नहीं पहुंचाया और बीच में ही गायब कर दिया। 13. क्लर्क या नौकर द्वारा दो हजार रुपये तक की बेईमानी करना (धारा 408)।
14. जानबूझकर चोरी की संपत्ति (जिसकी कीमत 2000 रुपये तक है) खरीदना (धारा 411)।
15. चोरी की गई किसी ऐसी चीज को छुपाना या बेचना, जिसकी कीमत 2000 रुपये तक है (धारा 414)।
16. धोखेबाजी (धारा 417, 418)।
17. भेष बदलकर, नाम बदलकर धोखा देना (धारा 419)।
18. किसी कीमती चीज को ठगना, किसी को वह चीज देने के लिए मजबूर कर देना या किसी कीमती चीज को नष्ट कर देना (धारा 420)।
19. किसी चीज (संपत्ति) को छुपा देना, एक जगह से हटा देना या उसका वितरण उनके बीच रोक देना, जिनको वह मिलनी थी (धारा 421)। मसलन राशन की दुकानों पर आने वाला सामान जिन लोगों के बीच बंटना है, उनके बीच न बांटकर उसकी कालाबाजारी कर दी जाए। इसी तरह मान लीजिए आपने अपनी नियत जगह पर गाड़ी पार्क की। किसी ने आपकी गाड़ी वहां से हटाकर कहीं दूसरी जगह पार्क कर दी। ऐसे मामलों में माना जाता है कि दूसरी जगह गाड़ी पार्क करने वाले का मकसद गाड़ी पर हाथ साफ करना है।
20. किसी ट्रांसफर डीड को बेईमानी से एक्जिक्यूट करना, जिसमें ट्रांसफर की कीमत के बारे में झूठा स्टेटमेंट हो (धारा 423)। ऐसी संपत्ति को छुपा देना या हटा देना (धारा 424)।
21. किसी के जानवर को मारना या अंग-भंग करना (धारा 428)।
22. किसी व्यक्ति को नुकसान पहुंचाने के लिए उसके पानी की धारा मोड़ देना (धारा 430)। खेतों में लगाए गए पानी को अगर कोई मोड़कर अपने खेत में लगा लेता है, तो यह मामला बनता है।
24. झूठा ट्रेडमार्क या संपत्ति का मार्क व्यवहार में लाना (धारा 482)।
25. जानबूझकर नकली मार्क का सामान बेचना, खरीदना (धारा 486)। मसलन कोई किसी सामान को टिस्को का झूठा मार्क लगाकर बेच देता है तो यह मामला बनेगा।
26. पति या पत्नी के जिंदा रहते दूसरा विवाह रचाना (धारा 494)।
कबूल करने पर जल्द छुटकारा कई ऐसे अपराध हैं, जिनमें अधिकतम सजा दो साल से कम है। ऐसे मुकदमों में संक्षिप्त ट्रायल का प्रावधान है। आईपीसी की धारा 379, 380 और 381 को संक्षिप्त ट्रायल में लाया जा सकता है, बशर्ते चोरी की गई संपत्ति की कीमत दो हजार रुपये तक हो। ऐसे मामलों में अगर किसी का करिअर, नौकरी आदि खतरे में नहीं हैं तो अभियुक्त अपनी गलती मानकर सजा को काफी कम करवा सकता है और ट्रायल से जल्दी छुटकारा पा सकता है। मुकदमे की शुरुआती तारीख में ही ऐसा कर लेना चाहिए। प्ली बारगेनिंग 2005 के संशोधन से एक नई धारा 265-ए आपराधिक प्रक्रिया संहिता में जोड़ी गई। इसका नाम है प्ली बारगेनिंग यानी तर्कपूर्ण सौदेबाजी। पुलिस द्वारा दर्ज अपराधों में अपराधी प्ली बारगेनिंग का आवेदन कर सकता है। प्ली बारगेनिंग सिर्फ उन अपराधों में हो सकती है, जिनमें सात साल से कम सजा का प्रावधान है। शर्त यह भी है कि व्यक्ति का यह पहला अपराध हो। प्ली बारगेनिंग का आवेदन करने के बाद अदालत पीडि़त पक्ष को नोटिस भेजेगी। पब्लिक प्रॉसिक्यूटर और अभियुक्त के वकील को भी हाजिर होने के लिए कहेगी। अभियुक्त और पीडि़त भी अपने वकील के साथ रह सकते हैं। ये सब बैठकर पीडि़त को आथिर्क मुआवजा देने के मुद्दे पर बात करेंगे। (यह व्यवस्था उन अपराधों के लिए नहीं है, जिनकी वजह से देश की आथिर्क, सामाजिक स्थिति प्रभावित होती है। वे अपराध भी इस कैटिगरी में नहीं आते हैं, जो किसी महिला या 14 साल से कम उम्र के बच्चे के साथ किए गए हैं) अगर कोई संतोषजनक हल निकल जाता है, तो सभी संबंधित पक्ष और कोर्ट के पीठासीन अधिकारी इस रिपोर्ट पर हस्ताक्षर करेंगे और आखिर में कोर्ट का फैसला आएगा। सारी बातें सुलह करके जुर्माना देकर सुलझ जाती हैं तो अदालत अभियुक्त को डांट लगाकर और आईपीसी की धारा 360 के तहत अच्छा आचरण करने का निदेर्श देकर बॉन्ड पर रिहा कर सकती है। इस धारा के तहत दिया गया फैसला अंतिम होगा। उसकी अपील या रिविजन नहीं होगा। हां, किसी खास परिस्थिति में रिट याचिका दायर की जा सकती है।

शादी संबंधी मामले
शादी से संबंधित मामलों जैसे दहेज प्रताड़ना या दूसरी तरह के शारीरिक, मानसिक अत्याचार में (ऐसे मामले जिनमें धारा 498-ए के तहत मुकदमा दायर होता है) कानून समझौता करने की इजाजत नहीं देता है, लेकिन अगर पति, पत्नी या ससुरालवालों में समझौता हो जाए तो हाई कोर्ट में रिट दायर करके मामला निबटाया जा सकता है। इसी तरह आपसी सहमति से तलाक के मामलों में दोनों पक्ष हिंदू मैरिज एक्ट, 1955 की धारा 13 बी (1) और धारा 13 बी (2) के तहत एक साथ अर्जी डाल सकते हैं और दो-चार दिनों में तलाक ले सकते हैं। नेकचलनी से पाएं राहत (प्रोबेशन ऑफ ऑफेंडर्स एक्ट) आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 360 व 361 के मुताबिक, अगर 21 साल से बड़ा कोई शख्स किसी ऐसे अपराध में सजा पाता है, जिसमें सजा सिर्फ जुर्माना या सात साल की अधिकतम कैद है, तो वह अदालत से प्रार्थना कर सकता है कि उसे जेल न भेजा जाए। इसकी जगह उससे सजा अवधि तक का बॉन्ड भरवा लिया जाए कि वह इस दौरान कोई जुर्म नहीं करेगा। यह व्यवस्था सिर्फ उसी हालत में है, जब व्यक्ति का पहला अपराध हो। ऐसा आवेदन देने पर अदालत अभियुक्त की उम्र, चरित्र, फैमिली और क्रिमिनल बैकग्राउंड का प्रोबेशनरी ऑफिसर द्वारा पता लगवाकर उसे प्रोबेशन पर छोड़ देगी, जिससे वह एक शांतिप्रिय नागरिक बनकर अपने घर, करियर, व्यवसाय आदि की देखभाल कर सके। ऐसा आवेदन मुकदमे की किसी भी स्टेज पर (ट्रायल, अपील, रिविजन) दिया जा सकता है। प्रोबेशन पर छोड़ने के लिए अदालत की शर्तों को मानना जरूरी है, नहीं तो अदालत आदेश को कैंसल कर सकती है और अभियुक्त को जेल काटनी पड़ सकती है।
कुछ टिप्स
अगर अभियुक्त की उम्र 16 साल से कम है, तो शुरू में ही अदालत में आवेदन व दूसरे सर्टिफिकट देकर या ऑसिफिकेशन टेस्ट करवाकर कहें कि बच्चे का ट्रायल चिल्डेन कोर्ट में होना चाहिए। ऐसा करके उसे जमानत दिलवाई जा सकती है। अगर सजा होती है, तो उसे जेल नहीं जाना पड़ेगा। आप किसी मुकदमे में पीड़ित हों या अभियुक्त, अगर चाहते हैं कि मुकदमा जल्द खत्म हो जाए तो आपको मुकदमे के सभी कागजों की एक-एक कॉपी अपने पास रखनी चाहिए। मुकदमे की पूरी फाइल मेंटेन करें। अपने वकील के अलावा कानून के दूसरे जानकारों से भी सलाह-मशवरा करते रहें। संबंधित कानून को भी जानने की कोशिश करें। कोई महत्वपूर्ण बात अदालत को बतानी है, तो खुद भी बताएं।
दस्तावेज फाइल करने के लिए, गवाही देने के लिए या फिर किसी भी काम के लिए तारीख पड़े, तो उस काम को जरूर करें। सच कहना भी मुकदमों को लंबा खिंचने से बचाता है। आज जानकार इस बात को जरूरी समझते हैं कि ट्रायल कोर्ट में मैजिस्ट्रेट, पब्लिक प्रॉसिक्यूटर और पुलिस को कानून की जानकारी स्पेशल ट्रेनिंग के जरिए दी जानी चाहिए। ऐसा होने के बाद पुलिस मुकदमे का रजिस्ट्रेशन और पड़ताल जल्दी कर पाएगी। इसी तरह पब्लिक प्रॉसिक्यूटर और मैजिस्ट्रेट भी मुकदमे का ट्रायल जल्दी और सही ढंग से कर पाएंगे। क्या आपको ये पता था...नहीं ना हमें भी नहीं था...

कमलेश जैन (लेखिका सुप्रीम कोर्ट में प्रैक्टिसिंग एडवोकेट हैं।)


रिऐलिटी शो 'इंडियाज़ गॉट टैलेंट' को जीतने वाले उड़ीसा के प्रिंस ग्रुप की कहानी 'स्लमडॉग मिलिनेअर' से हूबहू मिलती है। ग्रुप ने एक बार फिर साबित कर दिया है कि प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती। इसके सभी 24 मेंबर्स गंजम जिले के अलग-अलग हिस्सों में दिहाड़ी पर काम करने वाले लोग हैं। इसके साथ ही इनकी जिंदगी भी सामान्य नहीं रही है। दो लोगों को तो पहले पोलियो था लेकिन डांस वक्त करते वक्त उनके जोश और जुनून से इसका एहसास ही नहीं हुआ। ग्रैंड फिनाले में 10 दूसरे ग्रुप भी थे, लेकिन प्रिंस ग्रुप के दशावतार आइटम के सामने कोई भी नहीं टिक पाया और वे चमचमाती ट्रॉफी के साथ 50 लाख रुपये व रिट्ज कार के हकदार बन गए। फाइनल में इन लोगों ने भगवान विष्णु के 10 अवातरों पर आधारित डांस किया था। ग्रुप के लीडर कृष्ण मोहन रेड्डी ने जीत के बाद कहा कि हमें इसकी उम्मीद थी, पर अब हमने यह हासिल कर लिया है। इससे हम काफी रोमांचित हैं। बिना किसी से सीखे ही कोरियोग्राफर बनने वाले रेड्डी ने बताया कि उनके ग्रुप के सभी मेंबर्स को पैसों की काफी जरूरत थी। कुछ मेंबर्स को घर बनाने हैं तो कुछ को बहन की शादी करनी है। इन विषम परिस्थितियों के बावजूद ग्रुप के सभी मेंबर्स एक डांस अकादमी खोलना चाहते हैं। रेड्डी का कहना है कि हम सभी अपने-अपने हिस्से में से कुछ पैसा डांस अकादमी के लिए देंगे।

अगर यह सब कुछ सच में नहीं हो रहा होता, अगर इसके मुख्य पात्र भारत की प्रमुख विपक्षी पार्टी और पिछले तीन दशकों से उस पार्टी की प्रथम पंक्ति में खड़े एक नेता नहीं होते तो भाजपा-जिन्ना-जसवंत की इस तिकड़ी का किस्सा एक अलग किस्म की ग्रीक त्रासदी होती जिसके अंत में शायद रोना कम और हँसी ज़्यादा आती.

पूरे प्रकरण को दो तरह से देखा जा सकता है. मैं दोनों विश्लेषण लिख देता हूँ, आप जिसे चाहें सही मानें और उसी विश्लेषण का चश्मा पहन भाजपा का भविष्य देखें. पहला विश्लेषण यह एक दिशाहीन नेतृत्व द्वारा लोगों का ध्यान, भाजपा को चुनौती दे रही अगली समस्याओं से हटाने की कोशिश है. पार्टी के समक्ष चुनौती है- आडवाणी के बाद कौन? सत्ताधारी नेतृत्व का कांग्रेस का नेतृत्व किस युवा दिशा में जा रहा है सबको दिख रहा है. भाजपा में आडवाणी फ़िलहाल पद छोड़ने के मूड में नहीं हैं और सुषमा, जेटली, नरेंद्र मोदी, अनंत कुमार जैसे उनके समर्थकों की टोली को अभी और इंतज़ार करना पड़ेगा. 2004 और 2009 के दो आम चुनाव हारने के बाद भाजपा के समक्ष संगठन को वापिस खड़ा करने और कांग्रेस के सामने मज़बूत विपक्ष की भूमिका अदा करने की चुनौती है. राजनाथ सिंह का कार्यकाल भी अगले साल की शुरुआत में समाप्त होने जा रहा है. पार्टी को यह सोचना चाहिए कि उनके बाद पार्टी की बागडोर किसके हाथ में होगी ना कि आडवाणी बनाम राजनाथ सिंह के छद्म युद्ध में फँसना चाहिए.
पार्टी को राजस्थान में चल रही बग़ावत पर ध्यान देना चाहिए. साथ ही 2014 में लगातार तीसरा चुनाव वो ना हारे इस बारे में चिंतन करना चाहिए. राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ और भाजपा में टकराव नहीं सामंजस्य कैसे बढ़े इस पर सोचना चाहिए. भाजपा का भविष्य पिछले पाँच-छह सालों के मुकाबले और उज्ज्वल करने का एक मात्र रास्ता स्वस्थ और ईमानदार आत्मचिंतन ही होगा. पर चिंतन बैठक में क्या होता है? जिन्ना पर पुस्तक और उसकी प्रशंसा जसवंत सिंह की पार्टी से विदाई का कारण बनती है. और एक नॉन इश्यू को इतना तूल दे दिया जाता है कि वो चिंतन बैठक में आगे होने वाली सभी कार्यवाही पर हावी हो जाता है. कुल मिला कर पार्टी अनुशासन और सिद्धांतों के नाम पर काफ़ी वाहवाही बटोरने की कोशिश करती है पर अंत में असली मुद्दों का सामना करने का साहस नहीं जुटा पाती.
अब विश्लेषण के दूसरे पहलू पर भी नज़र डालें जिसे भाजपा नेता मीडिया को बेचने का प्रयास कर रहे हैं. इस वर्ग का कहना है कि पार्टी में अब अनुशासनहीनता बिल्कुल बर्दाश्त नहीं की जाएगी चाहे नेता कितना ही बड़ा क्यों ना हो अगर वह पार्टी के सिद्धांतों, सोच और दर्शन के ख़िलाफ़ जाएगा तो उसके साथ वही होगा जो जसवंत सिंह के साथ हुआ है. जसवंत सिंह को उदाहरण बनाना पार्टी के लिए आसान भी है. कहने को तो वो बड़े कद्दावर नेता हैं, रक्षा, विदेश और वित्त मंत्रालय सँभाल चुके हैं. पर ज़मीनी राजनीति पर उनके पार्टी में रहने या नहीं रहने से ज़्यादा फ़र्क नहीं पड़ता. जसवंत सिंह कभी भी जननेता नहीं रहे हैं. तो पार्टी उन पर निशाना साध कर वसुंधरा राजे जैसे नेताओं को भी चेता रही है जिन्होंने बाग़ी तेवर अपनाए हुए हैं. भाजपा नेतत्व जसवंत के ख़िलाफ़ कार्रवाई कर आरएसएस को भी मनाने का प्रयास कर रहा है जो मौजूदा वक़्त की ज़रूरत है. जसवंत कभी भी आरएसएस की पसंदीदा सूची में शामिल नहीं थे और मामला इस बार सिर्फ़ जिन्ना का ही नहीं था. जसवंत सिंह ने अपने बयानों में आरएसएस के दिल के सबसे क़रीबी कांग्रेसी नेता वल्लभ भाई पटेल पर भी प्रहार कर पार्टी से अपनी बर्ख़ास्तगी का मार्ग स्वयं ही प्रशस्त किया है. कुल मिला कर इस वर्ग का यह मानना है कि समय सख़्त कार्रवाई और राजनीतिक संदेश देने का था और पार्टी ने वही किया है. एक तीर से कई निशाने साधे गए हैं. दोनों में से कौन सी सोच सच्चाई के ज्यादा क़रीब है यह फ़ैसला मैं आप पर छोड़ता हूँ. हाँ एक बात तय है कि अगर जसवंत सिंह के ख़िलाफ़ मुद्दा सिर्फ़ और सिर्फ़ ज़िन्ना पर उनकी पुस्तक है तो मैं जसवंत सिंह के उस बयान से सहमत हूँ कि विचारों पर प्रतिबंध और कार्रवाई की राजनीति कोई बहुत स्वस्थ परंपरा नहीं है.

( बीबीसी के सजीव द्वारा )

'हनुमान से रावण सिर्फ़ एक किताब के लिए' जसवंत सिंह ने पार्टी में दोहरे मापदंड की तरफ़ इशारा किया है.भारतीय जनता पार्टी से निकाले जाने पर वरिष्ठ नेता जसवंत सिंह ने दु:ख ज़ाहिर करते हुए कहा है कि अफ़सोस है कि केवल एक क़िताब लिखने से उन्हें हनुमान से रावण बना दिया गया है.वित्तमंत्री और विदेश मंत्री रह चुके जसवंत सिंह ने कहा कि उन्हें शिमला पहुंचने के बाद टेलीफ़ोन से पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने पार्टी से निकाले जाने की सूचना दी.उन्होंने कहा कि अच्छा होता अगर आडवाणी और राजनाथ सिंह उन्हें व्यक्तिगत तौर पर इसकी सूचना देते.जसवंत सिंह पार्टी की चिंतन बैठक में शामिल होने के लिए शिमला पहुंचे थे लेकिन उन्हें बैठक में आने से मना कर दिया गया.उन्होंने कहा कि जब कोई देश मनन, चिंतन, पठन, लेखन से विमुख हो जाता है तो वो उस देश के भविष्य के लिए बुरा होता है.उनका कहना था: ``और जब कोई राजनीतिक पार्टी इन सबसे विमुख हो जाए तो ये उसके लिए एक काला दिन होता है.’’जसवंत सिंह ने अपनी किताब “जिन्ना: इंडिया, पार्टीशन, इंडिपेंडेंस’’ में भारत के विभाजन के लिए केवल जिन्ना को ज़िम्मेदार नहीं ठहराते हुए नेहरू, पटेल और कांग्रेस को भी उसका ज़िम्मेदार बताया है.मंगलवार को ही भारतीय जनता पार्टी ने स्पष्ट कर दिया था कि वो इस राय से सहमत नहीं हैं.राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और शिवसेना ने भी नाराज़गी ज़ाहिर की थी.हम स्वार्थ में डूब जाएंगे, स्व की ही सोचते रहेंगे और देश के स्वाभिमान की नहीं सोचेंगे तो क्या होगा
जसवंत सिंह 1967 में फ़ौज छोड़कर राजनीति में कूदनेवाले जसवंत सिंह का कहना था कि उन्होंने तीस साल तक पार्टी की यथाशक्ति सेवा की है.उनका कहना था: ``बहुत पहले इंडिया टूडे में एक कार्टून छपा था जिसमें मुझे हनुमान के तौर पर दिखाया गया था. दु:ख होता है कि एक किताब की वजह से मैं हनुमान से रावण बन गया हूं.’’ जसवंत सिंह ने पिछले दिनों में पार्टी की अंदरूनी राजनीति पर भी सवाल उठाए थे.उसका हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि एक दस्तावेज़ में उन्होंने पूछा था: ``हम स्वार्थ में डूब जाएंगे, स्व की ही सोचते रहेंगे और देश के स्वाभिमान की नहीं सोचेंगे तो क्या होगा.’’
पत्रकारों के सवालों में जब उन्हें आडवाणी के जिन्ना प्रसंग और उसके बाद पार्टी के रवैये से तुलना करने को कहा गया तो जसवंत सिंह ने कोई सीधा हमला तो नहीं किया लेकिन दोहरे मापदंड की ओर इशारा ज़रूर किया.उन्होंने ये भी स्पष्ट किया कि इस मामले का आख़िरी अध्याय अभी नहीं लिखा गया है.उन्होंने कहा: ``मुझे पार्टी से निकाला गया है लेकिन मेरा राजनीतिक जीवन अभी समाप्त नहीं हुआ है.’’उनका कहना था कि आज की राजनीति की जो नैतिकता है उस पर गंभीरता से सोच विचार करके लिखने की ज़रूरत है.

शाहरुख एक्टर हैं तो अमर सिंह उनसे बड़े कलाकार है। एक पर्दे पर रुलाता और हंसाता है तो दूसरा राजनीति के सीने पर बरसों से मूंग दल रहा है। ड्रामेबाज दोनो हैं, फर्क बस इतना है कि एक ड्रामा करके पैसे बनाता है और दूसरा ड्रामा करके लोगों को बेवकूफ। शाहरुख अमेरिका से अपमानित होकर इंडिया पहुंचे तो उनका स्वागत किसी गोल्ड मेडल जीते खिलाड़ी की तरह हुआ। शायह ये पहली बार हुआ होगा कि अपमान को इस कदर सम्मान मिला हो। लेकिन ये बात राजनीति के मंच पर अमूमन अपमानित होने के आदी अमर सिंह को अच्छी नहीं लगी। अपमान से उनका तालुक्क पुराना है, लेकिन अपमान के सम्मान का स्वाद शाहरुख को जिस तरह चखने को मिला वो अमर बाबू को कभी नहीं मिला। दर्द दिल से निकला और जुबां पर आ गया और शाहरुख के अपमान को वो पब्लिसिटी स्टंट बता बैठे। अमर सिंह अपनी चुभने वाली शायरी से अक्सर लोगों को घायल करते रहे हैं। लेकिन उनकी जुबान की ये चुभन शाहरुख ने पहली बार महसूस की। शाहरुख ने भी अमर को खरी खोटी सुनाने में देर नहीं लगाई। अपमान पर अपमान का शो चलता रहा। चैनल वाले टीआरपी बटोरते रहे और दर्शक हमेशा की तरह बेवकूफ बनते रहे। इस चर्चा में ये सवाल कहीं गुम हो गया कि आम आदमी के अपमान पर इतना बवाल कभी क्यों नहीं हुआ। पुलिस से लेकर सरकारी मुलाजिमों की चौखट पर आम आदमी रोज अपमानित होता रहा। लेकिन इस अपमान पर टीवी के चौखटे पर कभी कोई बहस क्यों नहीं हुई। फिलहाल दौर ग्लैमर का है सो अपमान भी ग्लैमरस हो चुका है।

(गुलजार हवा के ताजे झोकें की तरह हैं। वो हमेशा अपने लफ्जों से तरोताजा करते रहे हैं। उनकी जिंदगी उसके लिखे अल्फाजों की तरह है। जहां एहसास है, छुअन है और ताजगी है। गुलजार का रेनकोट फिल्म का ये संवाद करतन पर संजोने की कोशिश )


किसी मौसम का झोंका था,
जो इस दीवार पर लटकी हुइ तस्वीर तिरछी कर गया है
गये सावन में ये दीवारें यूँ सीली नहीं थीं
ना जाने इस दफा क्यूँ इनमे सीलन आ गयी है
दरारें पड़ गयी हैं और सीलन इस तरह बैठी है
जैसे खुश्क रुक्सारों पे गीले आसूं चलते हैं
ये बारिश गुनगुनाती थी इसी छत की मुंडेरों पर
ये बारिश गुनगुनाती थी इसी छत की मुंडेरों पर
ये घर कि खिड़कीयों के कांच पर उंगली से लिख जाती थी सन्देशे
देखती रहती है बैठी हुई अब, बंद रोशंदानों के पीछे से
दुपहरें ऐसी लगती हैं, जैसे बिना मोहरों के खाली खाने रखे हैं,
ना कोइ खेलने वाला है बाज़ी, और ना कोई चाल चलता है,
ना दिन होता है अब ना रात होती है, सभी कुछ रुक गया है,
वो क्या मौसम का झोंका था, जो इस दीवार पर लटकी हुइ तस्वीर तिरछी कर गया है


(जिन्ना की तारीफ करके जसवंत सिंह फंस चुके हैं। इतिहास को देखने का उनका सलीका सवालों के घेरे में। करतन में बीबीसी से साभार जसवंत सिंह के कारनामे पर लेख को संजोने की कोशिश)
बीबीसी की राय
इक्कीसवीं सदी के भारत में जब जब मोहम्मद अली जिन्ना की प्रशंसा होगी ... उसके पीछे भारतीय जनता पार्टी का कोई वरिष्ठ नेता होगा...कुछ साल पहले तक महज़ इस ख़याल को भी लोग किसी कम अक्ल के दिमाग की उपज बता उपहास उडाते नहीं थकते.... पर जब 2005 में लाल कृष्ण आडवाणी अपनी पाकिस्तान यात्रा पर गए और जिन्ना साहब को एक बड़े धर्म निरपेक्ष नेता होने का ख़िताब अता किया और काएदे आज़म की भूरी भूरी प्रशंसा की तो ख़ासा बड़ा बवाल पैदा हो गया....कुछ ही हफ्तों में आडवाणी जी के पुराने साथी, उनके द्वारा बनाये गए और प्रोमोट किए गए नेता उनके विरोध का राग अलाप रहे थे और हिंदुत्व के लौह पुरुष को मुस्लिम तुष्टिकरण के मुद्दे पर कटघरे में खडा कर दिया गया था. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने उस मुद्दे पर जो उनसे नाता तोड़ा वह तार अब तक वापस नहीं जुड़े हैं.और जिन्ना प्रकरण के बाद से आडवाणी जी कभी बीजेपी के सर्वमान्य नेता नहीं बन पाए.यह एक अलग बहस का विषय है की आडवाणी के साथ जो हुआ वह सही था या ग़लत.क्यों बीजेपी और आरएसएस उनकी उस रणनीति को नहीं समझ पाए जिसके ज़रिये आडवाणी भारतीय मुसलमानों में अपनी मुस्लिम विरोधी छवि तोड़ने की कोशिश कर रहे थे? बहरहाल उस प्रकरण का बकौल आडवाणी जी इतना असर ज़रूर हुआ की उनकी पाकिस्तान में छवि स्पष्ट हो गयी और सीमा पार से उनके पास प्रशंसा के कई ख़त आए. पर भारतीय राजनीति के परिपेक्ष में जिन्ना विवाद का ज़बरदस्त खामियाजा आडवाणी को भुगतना पड़ा. अब बारी जसवंत सिंह जी की है. उन्होंने कायदे आज़म पर एक ६५० पन्नों की पुस्तक लिख दी है जिसमें न सिर्फ उन्होंने जिन्ना को एक महानायक की संज्ञा दी है बल्कि विभाजन के लिए जवाहर लाल नेहरु और ब्रितानी हुकूमत दोनों को जिन्ना जितना ही दोषी माना है.

एक बार फिर एक बीजेपी नेता जिन्ना की प्रशंसा कर रहा है उन्हें महानायक और इतिहासपुरुष की संज्ञा दे रहा है.
बीबीसी से बात करते हुए जसवंत सिंह ने मोहम्मद अली जिन्ना को मुख्य पात्र बनाते हुए पुस्तक लिखने के अपने फैसले को सही ठहराते हुए कहा की कायदे आज़म केवल तेरह महीने ही पाकिस्तान में रहे थे. बाकी पूरी उम्र तो उन्होंने अपनी भारत में ही निकाली थी. "मेरा किताब लिखने का मकसद किसी को सही और किसी को ग़लत ठहराना नहीं बल्कि इतिहास के पन्ने पलट विभाजन के कारणों को समझने का है." जसवंत सिंह की क़िताब से भारत की सुस्त पड़ी राजनीति में भी कुछ हलचल आयी है. जसवंत सिंह की जिन्ना प्रशंसा पर अभी तक उनकी पार्टी में तो तलवार नहीं खिंची है पर कांग्रेस ने ज़रूर उनपर निशाना साधा है. कांग्रेस का कहना है कि बीजेपी की स्वयं को जिन्ना और मुस्लिम पक्षधर बताने की कोशिश कुछ ऐसी ही है जैसे सौ चूहे खाकर बिल्ली हज को चली. बीजेपी और कांग्रेस की राजनीति पर इस नई पुस्तक का शायद ही कोई दूरगामी असर पड़े पर एक बात तय है. जसवंत सिंह की पुस्तक को जो मुफ्त पब्लिसिटी मिल रही है उससे प्रकाशक और लेखक अवश्य प्रसन्न होंगें साथ ही विभाजन से पूर्व की राजनीति पर और जिन्ना नेहरु और ब्रितानी हुकूमत की भूमिका पर एक नया दृष्टिकोण भी लोगों के समक्ष आया है.....

जसवंत की दलील
' मेरा किताब लिखने का मकसद किसी को सही और किसी को ग़लत ठहराना नहीं बल्कि इतिहास के पन्ने पलट विभाजन के कारणों को समझने का है'

( ये खबर उम्मीद जगाती है। खबर बीबीसी से साभार है। खुश होने की कई वजहें हैं)
अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ़) का कहना है कि दुनिया की अर्थव्यवस्थाएँ मंदी के दौर से निकलनी शुरू हो गई है लेकिन ये अनियमित और धीमी होगी.आईएमएफ़ का कहना है कि वित्तीय बाज़ार और बैंकों के सामने अब भी समस्याएँ हैं.उसका कहना है कि विकसित अर्थव्यवस्थाओं की विकास की गति अगले साल के अंत में ही ज़ोर पकड़ पाएगी.आईएमएफ़ का कहना है कि अभूतपूर्व आर्थिक और वित्तीय क़दमों के कारण ये स्थिरता आई है.बीबीसी संवाददाता का कहना है कि आईएमएफ़ की रिपोर्ट कोई बहुत सुनहरी तस्वीर नहीं पेश करती.दरअसल आईएमएफ़ का अब भी मानना है कि वैश्विक आर्थिक संकट अभी समाप्त नहीं हुआ है.भारत की विकास दर इधर आईएमएफ़ ने वर्ष 2009 के लिए भारत की विकास दर का अनुमान बढ़ाकर 5.4 फ़ीसदी कर दिया है.इसके पहले आईएमएफ़ ने भारत की विकास दर 4.5 फ़ीसदी रहने की बात कही थी.आईएमएफ़ का मानना है कि चीन की विकास दर 7.5 फ़ीसदी रहेगी जबकि पहले उसने ये दर 6.5 फ़ीसदी रहने का आकलन किया था.आईएमएफ़ का मानना है कि वित्तीय संकट इसलिए गहराया क्योंकि वित्तीय संस्थाएं ग़ैरज़िम्मेदाराना ढंग से उधार दे रही थीं.साथ ही इसके गंभीर होने की एक वजह ये भी थी कि दुनिया की सभी बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में एक साथ गिरावट आई.

(मजाज बार बार याद आते हैं...एक बार फिर यादों का कारवां मजाज के पास जा पहुंचा। एक उम्दा आर्टिकिल हाथ लगा सोचा क्यों ना कतरन में संजो लिया जाए)
शहर की रात और मैं नाशादो-नाकारा फिरूँ,
जगमगाती जागती सड़कों पे आवारा फिरूँ,
ग़ैर की बस्ती है, कब तक दर-ब-दर मारा फिरूँ,
ग़मे दिल क्या करूँ, ऐ वहशते-दिल क्या करूँ.
ये अल्फाजअसरारुल हक़ मजाज़ के हैं....असरारुल हक़ मजाज़ उस दौर के शायर थे जब कविता रूमानियत के दौर से निकल कर क्रांति का बिगुल बजाने लगी थी.यह वही दौर था जब प्रगतिशील लेखक आंदोलन की नींव पड़ी और मजाज़, सज्जाद ज़हीर और सरदार जाफ़री इस आंदोलन के संस्थापकों के तौर पर सामने आए. इस दौर की शुरुआत से पहले मजाज़ एक संवेदनशील, रूमानी शायर के तौर पर जाने जाते थे.'मजाज़ रूमानी और प्रगतिशील दोनों थे' उनकी शायरी एक ऐसी महबूबा को समर्पित थी जो किसी के भी दिल की धड़कनों में भी ढूँढी जा सकती थी.
देखना जज़्बे मोहब्बत का असर आज की शाने पे है
उस शोख़ का सर आज की रात
या फिर
क्या हुआ मैंने अगर हाथ बढ़ाना
आपने खुद भी तो दामन न बचाना चाहा
मजाज़ के अंदर के शायर ने जन्म लिया उनके अलीगढ़ विश्विद्यालय में दाख़िला लेने के बाद जबकि उन्हें कुछ ऐसे ही लोगों की सोहबत मिली. अलीगढ़ के माहौल ने मजाज़ के अंदर के शायर को पैदा किया मज़ाज़ की छोटी बहन हमीदा सालिम उन दिनों के बारे में बताती हैं, "अलीगढ़ के माहौल ने मजाज़ का शायरी की ओर रुझान पैदा किया. वहाँ उनकी सच्चे तौर पर क़द्र हुई."मज़ाज़ कमउम्री में ही शोहरत की बुलंदियों पर पहुँच गए. हर मुशायरा उनके बिना सूना समझा जाता था.कहा जाता था कि जिगर मुरादाबादी के अलावा अगर किसी शायर के तरन्नुम के लोग दीवाने थे तो वह थे मजाज़.....प्रगतिशील आंदोलन के शुरू होने के बाद मजाज़ की शायरी का रंग कुछ इस तरह बदला
बोल अरी ओ धरती बोलराजसिंहासन डावांडोल
या
जी में आता है यह सारे चाँद तारे नोच लूं
इस किनारे नोच लूँ और उस किनारे नोच लूं
एक दो का ज़िक्र क्या सारे के सारे नोच लूं
ए ग़मे दिल क्या करूँ ऐ वहशते दिल क्या करूँ
इश्क़ और फिर शराबनोशी. इन दो ने मजाज़ पर कुछ ऐसा क़ब्ज़ा किया कि उनकी पूरी दुनिया जैसे यहीं तक सिमट कर रह गई.जिसे चाहा वह मिली नहीं और फिर शराब के ज़रिए ग़म भुलाते-भुलाते मजाज़ ने अपने आप को खो दिया. इश्क़ में पागलपन ने उन्हें राँची के मानसिक चिकित्सालय पहुँचा दिया और शराब ने उनसे सोचने-समझने की क़ुव्वत छीन ली.एक ऐसा प्रतिभाशाली कवि जिसने कम उम्र मे ही शोहरत के नए आयाम तय कर लिए थे अपनी ज़िंदगी के कुल चवालीस साल में ही इतना कुछ दे गया जो उर्दू साहित्य को समृद्ध करने के लिए काफ़ी था.पाँच दिसंबर, 1955 को मजाज़ ने दुनिया को अलविदा कह दिया.आज उनकी तुलना कीट्स से की जाती है और उनका एकमात्र कविता संग्रह आहंग उर्दू साहित्य की एक ऐसी धरोहर माना जाता है जो अनमोल है.

Blogger Templates by Blog Forum